Khatu Shyam Ji Ki Aarti Lyrics

श्री खाटू श्याम जी का मंदिर राजस्थान राज्य के सीकर जिले में स्थित है, वे पहले बाल्यकाल मे बर्बरीक के नाम से जाने जाते थे और उन्हे कलयुग में श्री कृष्ण जी के नाम- श्याम से पूजे जाएँगे एसा श्री कृष्ण से वरदान प्राप्त किया था!

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे |
खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे || ॐ

रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे |
तन केसरिया बागो, कुण्डल श्रवण पड़े || ॐ

गल पुष्पों की माला, सिर पार मुकुट धरे |
खेवत धूप अग्नि पर दीपक ज्योति जले || ॐ

मोदक खीर चूरमा, सुवरण थाल भरे |
सेवक भोग लगावत, सेवा नित्य करे || ॐ

झांझ कटोरा और घडियावल, शंख मृदंग घुरे |
भक्त आरती गावे, जय – जयकार करे || ॐ

जो ध्यावे फल पावे, सब दुःख से उबरे |
सेवक जन निज मुख से, श्री श्याम – श्याम उचरे || ॐ

श्री श्याम बिहारी जी की आरती, जो कोई नर गावे |
कहत भक्त – जन, मनवांछित फल पावे || ॐ

जय श्री श्याम हरे, बाबा जी श्री श्याम हरे |
निज भक्तों के तुमने, पूरण काज करे || ॐ

Khatu Shyamji Temple is very unique and most popular Hindu temple of Rajasthan along with Salasar Balaji and Mehandipur Balaji temple. Khatushyamji is the religious circuit of Rajasthan that also includes temples of Rani Sati Temple, Jeen Mata and Salasar Balaji Hanuman temple.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of